Blog

Shani Dev ki Aarti Hindi Lyrics

0
shanidev-ki-aarti-hindilyrics

Shani Dev ki Aarti Hindi Lyrics. Lord Shani Devi is one of the important gods worshiped among Navagrahas. Shani Aarti starts with the lyrics Jai Jai Shri Shanidev Bhaktan Hitakaari. Below is the Hindi Lyrics of Shani Aarathi.

श्री शनिदेवजी की आरती

जय जय श्री शनिदेव भक्तन हितकारी ।
सूरज के पुत्र प्रभु छाया महतारी ॥
जय जय श्री शनिदेव…

श्याम अंक वक्र दृष्ट चतुर्भुजा धारी ।
नीलांबर धार नाथ गज की असवारी ॥
जय जय श्री शनिदेव…

किरीट मुकुट शीश सहज दिपत है लिलारी ।
मुक्तन की माल गले शोभित बलिहारी ॥
जय जय श्री शनिदेव…

मोदक मिष्ठान पान चढ़त हैं सुपारी ।
लोहा तिल तेल उड़द महिषी अति प्यारी ॥
जय जय श्री शनिदेव…

देव दनुज ॠषि मुनि सुरत नर नारी ।
विश्वनाथ धरत ध्यान शरण हैं तुम्हारी ॥
जय जय श्री शनिदेव…

shanidev-ki-aarti-hindilyrics

June 7, 2015 |

Brihaspati Aarti Hindi Lyrics

0
brihaspati-aarti-hindi-lyrics

आरती श्री बृहस्पति देवता की

जय वृहस्पति देवा, ऊँ जय वृहस्पति देवा ।
छिन छिन भोग लगाऊँ, कदली फल मेवा ॥

तुम पूरण परमात्मा, तुम अन्तर्यामी।
जगतपिता जगदीश्वर, तुम सबके स्वामी ॥

चरणामृत निज निर्मल, सब पातक हर्ता।
सकल मनोरथ दायक, कृपा करो भर्ता ॥

तन, मन, धन अर्पण कर, जो जन शरण पड़े।
प्रभु प्रकट तब होकर, आकर द्घार खड़े ॥

दीनदयाल दयानिधि, भक्तन हितकारी ।
पाप दोष सब हर्ता, भव बंधन हारी ॥

सकल मनोरथ दायक, सब संशय हारो ।
विषय विकार मिटाओ, संतन सुखकारी ॥

जो कोई आरती तेरी, प्रेम सहत गावे ।
जेठानन्द आनन्दकर, सो निश्चय पावे ॥

brihaspati-aarti-hindi-lyrics

 

 

May 12, 2014 |

Om Jai Shiv Omkara Hindi Lyrics

0
om-jai-shiv-omkara-hindi-lyrics

Om Jai Shiv Omkara Hindi Lyrics is the aarti of Lord Shiva. ॐ जय शिव ओंकारा ब्रह्मा, विष्णु, सदाशिव, अर्द्धांगी धारा lyrics in Hindi language.

Om Jai Shiv Omkara Lyrics Hindi

जय शिव ओंकारा
जय शिव ओंकारा, ॐ जय शिव ओंकारा ।
ब्रह्मा, विष्णु, सदाशिव, अर्द्धांगी धारा ॥
ॐ जय शिव ओंकारा

एकानन चतुरानन पंचानन राजे ।
हंसासन गरूड़ासन वृषवाहन साजे ॥
ॐ जय शिव ओंकारा

दो भुज चार चतुर्भुज दसभुज अति सोहे ।
त्रिगुण रूप निरखते त्रिभुवन जन मोहे ॥
ॐ जय शिव ओंकारा

अक्षमाला वनमाला मुण्डमाला धारी ।
त्रिपुरारी कंसारी कर माला धारी ॥
ॐ जय शिव ओंकारा

श्वेतांबर पीतांबर बाघंबर अंगे ।
सनकादिक गरुणादिक भूतादिक संगे ॥
ॐ जय शिव ओंकारा

कर के मध्य कमंडलु चक्र त्रिशूलधारी ।
सुखकारी दुखहारी जगपालन कारी ॥
ॐ जय शिव ओंकारा

ब्रह्मा विष्णु सदाशिव जानत अविवेका ।
प्रणवाक्षर में शोभित ये तीनों एका ॥
ॐ जय शिव ओंकारा

लक्ष्मी व सावित्री पार्वती संगा ।
पार्वती अर्द्धांगी, शिवलहरी गंगा ॥
ॐ जय शिव ओंकारा

पर्वत सोहैं पार्वती, शंकर कैलासा ।
भांग धतूर का भोजन, भस्मी में वासा ॥
ॐ जय शिव ओंकारा

जटा में गंग बहत है, गल मुण्डन माला ।
शेष नाग लिपटावत, ओढ़त मृगछाला ॥
ॐ जय शिव ओंकारा

काशी में विराजे विश्वनाथ, नंदी ब्रह्मचारी ।
नित उठ दर्शन पावत, महिमा अति भारी ॥
ॐ जय शिव ओंकारा

त्रिगुणस्वामी जी की आरति जो कोइ नर गावे ।
कहत शिवानंद स्वामी सुख संपति पावे ॥
ॐ जय शिव ओंकारा.

om-jai-shiv-omkara-hindi-lyrics

April 18, 2014 |

Sai Baba Aarti Hindi Lyrics

0
saibaba-aarti-hindi-lyrics

Sai Baba Aarti Hindi Lyrics साई बाबा आरती is the devotional prayer of Shirdi Sai Baba. Below is the lyrics of Shirdi Saibaba in Hindi language.

Sai Baba Aarti Lyrics

आरती उतारे हम तुम्हारी साई बाबा ।
चरणों के तेरे हम पुजारी साईं बाबा ॥
विद्या बल बुद्धि, बन्धु माता पिता हो
तन मन धन प्राण, तुम ही सखा हो
हे जगदाता अवतारे, साईं बाबा ।
आरती उतारे हम तुम्हारी साई बाबा ॥

ब्रह्म के सगुण अवतार तुम स्वामी
ज्ञानी दयावान प्रभु अंतरयामी
सुन लो विनती हमारी साईं बाबा ।
आरती उतारे हम तुम्हारी साईं बाबा ॥

आदि हो अनंत त्रिगुणात्मक मूर्ति
सिंधु करुणा के हो उद्धारक मूर्ति
शिरडी के संत चमत्कारी साईं बाबा ।
आरती उतारे हम तुम्हारी साईं बाबा ॥

भक्तों की खातिर, जनम लिये तुम
प्रेम ज्ञान सत्य स्नेह, मरम दिये तुम
दुखिया जनों के हितकारी साईं बाबा ।
आरती उतारे हम तुम्हारी साईं बाबा ॥

saibaba-aarti-hindi-lyrics

April 13, 2014 |

Vaishno Mata Aarti Hindi Lyrics

0
Vaishno Mata Aarti Hindi Lyrics

Vaishno Mata Aarti Hindi Lyrics is the prayer of Goddess Maa Vaishno Devi. Below is the lyrics of वैष्णो माता की आरती. Vaishno Devi or Vaishnavi is a manifestation of Goddess Durga. The aarti is dedicated to Vaishno Devi Mandir located at the Trikuta Mountains in Jammu and Kashmir.

वैष्णो माता की आरती

जय वैष्णवी माता, मैया जय वैष्णवी माता।
द्वार तुम्हारे जो भी आता, बिन माँगे सबकुछ पा जाता॥

मैया जय वैष्णवी माता।
तू चाहे जो कुछ भी कर दे, तू चाहे तो जीवन दे दे।
राजा रंग बने तेरे चेले, चाहे पल में जीवन ले ले॥

मैया जय वैष्णवी माता।
मौत-जिंदगी हाथ में तेरे मैया तू है लाटां वाली।
निर्धन को धनवान बना दे मैया तू है शेरा वाली॥

मैया जय वैष्णवी माता।
पापी हो या हो पुजारी, राजा हो या रंक भिखारी।
मैया तू है जोता वाली, भवसागर से तारण हारी॥

मैया जय वैष्णवी माता।
तू ने नाता जोड़ा सबसे, जिस-जिस ने जब तुझे पुकारा।
शुद्ध हृदय से जिसने ध्याया, दिया तुमने सबको सहारा॥

मैया जय वैष्णवी माता।
मैं मूरख अज्ञान अनारी, तू जगदम्बे सबको प्यारी।
मन इच्छा सिद्ध करने वाली, अब है ब्रज मोहन की बारी॥

मैया जय वैष्णवी माता।
सुन मेरी देवी पर्वतवासिनी, तेरा पार न पाया।
पान, सुपारी, ध्वजा, नारियल ले तेरी भेंट चढ़ाया॥

सुन मेरी देवी पर्वतवासिनी, तेरा पार न पाया।
सुआ चोली तेरे अंग विराजे, केसर तिलक लगाया।
ब्रह्मा वेद पढ़े तेरे द्वारे, शंकर ध्यान लगाया।
नंगे पांव पास तेरे अकबर सोने का छत्र चढ़ाया।
ऊंचे पर्वत बन्या शिवाली नीचे महल बनाया॥

सुन मेरी देवी पर्वतवासिनी, तेरा पार न पाया।
सतयुग, द्वापर, त्रेता, मध्ये कलयुग राज बसाया।
धूप दीप नैवेद्य, आरती, मोहन भोग लगाया।
ध्यानू भक्त मैया तेरा गुणभावे, मनवांछित फल पाया॥

सुन मेरी देवी पर्वतवासिनी, तेरा पार न पाया।

Vaishno Mata Aarti Hindi Lyrics

April 11, 2014 |

Aarti Shani Dev Ki Lyrics

0
aarti-shani-devki-lyrics

Shri Shani Dev ki Aarti Lyrics. Jay Jay Shri Shanidev Bhaktan Hitakaari is the popular devotional song of Lord Shani. Worshipping Navagraha Shani on Saturdays is very beneficial to get rid of Shani Dosha and Sade Shani.

Aarti Shani Dev Ki Lyrics

Jay Jay Shri Shanidev Bhaktan Hitakaari,
Sooraj Ke Putra Prabhu Chaaya Mahataari .
Jay Jay Shri Shanidev Bhaktan Hitakaari.

Shyaam Ank Vakra Drasht Chaturbhujaa Dhaari,
Nilaambar Dhaar Naath Gaj Ki Asavaari .
Jay Jay Shri Shanidev Bhaktan Hitakaari.

Kirit Mukut Shish Sahaj Dipat Hai Lilaari,
Muktan Ki Maal Gale Shobhit Balihaari.
Jay Jay Shri Shanidev Bhaktan Hitakaari.

Modak Mishtaan Paan Chadhat Hai Supaari,
Lohaa Til Tel Udad Mahishi Ati Pyaari.
Jay Jay Shri Shanidev Bhaktan Hitakaari.

Dev Danuj Rishi Muni Surat Nar Naari,
Vishvanaath Dharat Dhyaan Sharan Hai Tumhaari.
Jay Jay Shri Shanidev Bhaktan Hitakaari.

aarti-shani-devki-lyrics

March 29, 2014 |

Ambe Tu Hai Jagdambe Kali Hindi Lyrics

0
ambe-tuhai-jagdambe-kali-hindi-lyrics

Ambe Tu Hai Jagdambe Kali Hindi Lyrics is the most popular Durga Maa Aarti. Below is the lyrics of Durga Mata Aarti in Hindi language. Durga Maa aarti is recited on all auspicious occasion of Durga pooja at home and temples.

आरती दुर्गा माताजी की

अम्बे तू है जगदम्बे काली जय दुर्गे खप्पर वाली।
तेरे ही गुण गाये भारती, ओ मैया हम सब उतारे तेरी आरती ॥

तेरे भक्त जनो पर माता, भीर पडी है भारी माँ।
दानव दल पर टूट पडो माँ करके सिंह सवारी।
सौ-सौ सिंहो से बलशाली, है अष्ट भुजाओ वाली,
दुष्टो को पलमे संहारती।
ओ मैया हम सब उतारे तेरी आरती ॥

माँ बेटे का है इस जग मे बडा ही निर्मल नाता।
पूत – कपूत सुने है पर न, माता सुनी कुमाता ॥

सब पे करूणा दरसाने वाली, अमृत बरसाने वाली,
दुखियो के दुखडे निवारती।
ओ मैया हम सब उतारे तेरी आरती ॥

नही मांगते धन और दौलत, न चांदी न सोना माँ।
हम तो मांगे माँ तेरे मन मे, इक छोटा सा कोना ॥

सबकी बिगडी बनाने वाली, लाज बचाने वाली,
सतियो के सत को सवांरती।
ओ मैया हम सब उतारे तेरी आरती ॥

चरण शरण मे खडे तुम्हारी, ले पूजा की थाली।
वरद हस्त सर पर रख दो,मॉ सकंट हरने वाली।
मॉ भर दो भक्ति रस प्याली,
अष्ट भुजाओ वाली, भक्तो के कारज तू ही सारती।
ओ मैया हम सब उतारे तेरी आरती ॥

ambe-tuhai-jagdambe-kali-hindi-lyrics

January 22, 2014 |
Vantage Theme – Powered by WordPress.
Skip to toolbar